Best] Funny Shayari on Daru | Daru, Sharabi शराब फनी शायरी इन हिंदी

Funny Shayari on Daru, Daru, Sharabi शराब फनी शायरी इन हिंदी, Best Daru Shayari in Hindi, Daru Sharabi Shayari, Sharabi Funny Shayari

Funny Shayari on Daru - Best] Daru, Sharabi शराब फनी शायरी इन हिंदी: Hi फ्रेंड्स, स्वागत है आपका आज के इस नए पोस्ट में और यहाँ हम कुछ शराब फनी शायरी शेयर करने जा रहे है। तो दोस्तों पोस्ट में दी गई सभी “Best Daru, Sharabi शराब फनी शायरी इन हिंदी” लाजबाब और धमाकेदार है तो पोस्ट में लास्ट तक चेक करिये। [ Best Dosti Shayari in Hindi | बेस्ट दोस्ती शायरी

Funny Shayari on Daru

जैसा कि हम सभी कई बार अपने दोस्तों या भाइयो को हंसाने के लिए या उनके चेहरे पर मुस्कराहट लाने के लिए प्यारी और फनी शराबी शायरी भेजते हैं। अगर आपको भी अपने मित्रो और भाइयो को ऐसे फनी और अच्छी शराबी शायरी व्हाट्सप्प या फेसबुक पर शेयर करना कहते हैं तो इस पोस्ट (दोस्ती सैड शायरी) की मदद ले सकते हैं। 

Daru Sharab Shayari – शराब पर फनी शायरी | शराबी शायरी इन हिंदी – दारू, शराब शायरी 2 लाइन्स

Check : Girlfriend Tareef Shayari - Best gf Ki Tareef Shayari in Hindi

रोक दो मेरे जनाजे को अब
मुझमे जान आ रही हैं..
आगे से थोडा राईट ले लो
दारु की दूकान आ रही हैं |

बोतल छुपा दो कफ़न में मेरे,
शमशान में पिया करूंगा,
जब खुदा मांगेगा हिसाब,
तो पैग बना कर दिया करूंगा

नशा महोब्बत का हो
शराब का हो …-
या WhatsApp का हो
होश तीनो मे खो जाते है
फर्क सिर्फ इतना है की
शराब सुला देती है ..
महोब्बत” रुला देती है, और –
whatsapp यारों की याद दिला देती है

जाम पे जाम पीने का क्या फ़ायदा?
शाम को पी, सुबह उतर जाएगी
अरे दो बून्द दोस्ती के
पी ले ज़िन्दगी सारी नशे में गुज़र जाएगी.

प्यार में दुनियाँ खुबसूरत लगती है,
दर्द में दुनियाँ दुश्मन लगती है।
तुम जेसे दोस्त जिन्दगी में हो तो,
“बिसलेरी” भी
साली “किंगफिशर” लगती है…

शराबी बनकर खुश हो लेता हूँ,
हर जाम से दर्द भर लेता हूँ,
एक बेवफा का नशा तो मुझे हर पल रहता है,
इस शराब से थोड़ा होश संभाल लेता हूँ,
कहो सनम से मुझे और पीने दे,
यारों थोड़ा अपने लिए भी जी लेता हूँ…

नशा हम किया करते हैं
इल्ज़ाम शराब को दिया करते हैं
कसूर शराब का नहीं उनका है
जिसका चेहरा हम जाम में तलाश किया करते हैं

रोक दो मेरे जनाज़े को जालिमों,
मुझमें जान आ गयी है,
पीछे मुड़के देखो कमीनो,
दारू की दुकान आ गयी है…

गम इस कदर मिला की घबरा के पी गये,
खुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गये,
यूँ तो ना थी जनम से पीने की आदत,
शराब को तन्हा देखा तो तरस खा के पी गये

पीते थे शराब हम उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर
महफ़िल में यारों ने पिलाई उसी की कसम देकर

पीके रात को हम उनको भुलाने लगे,
शराब में गम को मिलाने लगे,
दारू भी बेवफा निकली यारों,
नशे में तो वो और भी याद आने लगे…

एक जाम उलफत के नाम,
एक जाम मुहब्बत के नाम.
एक जाम वफ़ा के नाम,
पूरी बोतल बेवफा के नाम,
और पूरा ठेका दोस्तों के नाम

यूँ बिगड़ी बहकी बातों का
कोई शौक़ नही है मुझको
वो पुरानी शराब के जैसी है
असर सर से उतरता ही नहीं

उम्मीद नहीं है फिर भी जिए जा रहा हूँ.
खाली है बोतल फिर भी पिए जा रहा हूँ.
पता नहीं वो मिलेंगे या नहीं,
इज़हार-ए-मोहब्बत के लिए पिए जा रहा.

ग़म इस कदर बढ़े कि घबरा के पी गया
इस दिल की बेबसी पे तरस खा के पी गया
ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना
मैं आज सब जहान को ठुकरा के पी गया !!

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है,
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है.
फिर आवाज़ लगायी जाती है,
आ जाओ दर्दे दिलवालों.
यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है !!

शराब शरीर को खत्म करती है,
शराब समाज को ख़तम करती है,
आओ आज इस शराब को खत्म करते हैं,
एक बॉटल तुम खत्म करो, एक बॉटल हम खत्म करते है!!

Check: Hurt दर्द भरी शायरी | Painful Shayari In Hindi

Post a Comment

और नया पुराने